काशी के बाद गोरखपुर में भी शुरू होगी गंगा आरती, शाम होते ही घंटियों की आवाज से गूंज उठेगा नौका विहार

0
124

गोरखपुर।उत्तर प्रदेश के गोरखपुर में नौका विहार पर जल्द ही आध्यात्मिक नगरी काशी की तरह गंगा आरती की शुरुआत होने जा रही है।राम जी घाट आरती समिति की पहल पर गोरखपुर विकास प्राधिकरण ने सहमति दे दी है।समिति के सदस्य अब तैयारियों में जुट गए हैं।हर मंगलवार को यहां गंगा आरती की जाएगी।इसकी शुरुआत मंगलवार को नाग पंचमी के दिन होने की संभावना है।

समिति के सदस्य गोरखपुर के राज घाट पर रविवार शाम को 6 बजे आरती करते हैं।शुरुआत में कुछ लोग ही इस आरती में शामिल हुए,लेकिन धीरे-धीरे राजघाट पर भी संख्या बढ़ती जा रही है।गोरखपुर के नौका विहार पर भव्य गंगा आरती की शुरुआत राम जी घाट पर आरती समिति की पहल पर जल्द ही शुरू होगी। मंगलवार को नाग पंचमी के दिन इसकी शुरुआत हो सकती है।इसके बाद यहां धीरे-धीरे गंगा आरती रोजाना की जाएगी।समिति के लोग गंगा आरती की तैयारी में जुट गए हैं।शाम 6:30 बजे से होने वाली आरती में शहर के लोगों के सहयोग की समिति ने अपील भी की है।समिति के सदस्यों का कहना है कि यहां रोजाना काफी भीड़ होती है।इससे आरती के समय इसकी भव्यता अलग ही दिखेगी।

राम जी घाट आरती समिति के सदस्य डॉ शिवेंद्र सिंह ने बताया कि नाग पंचमी के अवसर पर गंगा आरती की शुरुआत करने की हमारी कोशिश है। आरती में पांच ब्राह्मण शामिल होंगे।यह आरती ढोल और नगाड़े की धुन पर की जाएगी।नौका विहार पर लोग बड़ी संख्या में आरती में शामिल होंगे जिससे आरती के महत्व को भी वह लोग जान सकेंगे।उन्होंने बताया कि नौका विहार पर लगभग 50 मिनट की आरती होगी।इसके पहले समिति के सदस्यों द्वारा यहां की साफ सफाई की जाएगी। आरती के बाद वहां किसी प्रकार की गंदगी नहीं रहने दी जाएगी।आरती की व्यवस्था के लिए समिति के सदस्य जुट गए हैं और उसकी तैयारी कर रहे हैं।

समिति सदस्य डॉ शिवेंद्र ने बताया कि नौका विहार पर शहीदों और ब्रह्मलीन गुरु गोरक्षपीठ के महान संतों की भी आरती की जाएगी।जिले के गुरु गोरक्षनाथ, झारखंडी महाराज, बाबा मुक्तेश्वर नाथ, नीलकंठ महादेव ,रुदेश्वर महाराज समेत जितने भी शक्तिपीठ हैं।उनके देव के चित्र के साथ समिति के सदस्य आरती करेंगे। उन्होंने बताया कि समिति के सदस्यों की ये मांग है कि रामगढ़ के आगे श्री राम लगाया जाए,क्योंकि रामगढ़ का नाम राम के नाम के साथ शुरू हो रहा है और राम के साथ देशवासियों की आस्था जुड़ी हुई है।

इस मामले में गोरखपुर विकास प्राधिकरण उपाध्यक्ष प्रेम रंजन सिंह ने बताया कि समिति के सदस्यों की ये पहल है कि रामगढ़ताल नौका विहार पर गंगा आरती हो हमारी तरफ से सहमति दे दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here