कुंडा विधायक राजा भइया के पिता राजा उदय प्रताप सिंह हाउस अरेस्ट, 3 दिन से बैठे थे धरने पर

0
140

प्रतापगढ़।उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के कुंडा विधायक व जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी मुखिया पूर्व कैबिनेट मंत्री रघुराज प्रताप सिंह राजा भइया के पिता भदरी नरेश राजा उदय प्रताप सिंह तीन दिन से कुंडा तहसील परिसर में धरने पर बैठे थे।शुक्रवार की सुबह नित्यक्रिया करने गए राजा उदय प्रताप सिंह को जिला प्रशासन ने हाउस अरेस्ट कर दिया है।हाउस अरेस्ट को लेकर उदय प्रताप सिंह के समर्थकों में काफी आक्रोश हैं।आज व्यापारियों ने कुंडा,हीरागंज बाजार,डेरवा बाजार समेत कई बाजारों को बंद का भी आह्वान किया है।बाजार बंदी को लेकर सोशल मीडिया पर भी पोस्ट काफी वायरल हो रहा है।

जानें क्यों दिया जा रहा है धरना

आपको बता दें कि कुंडा क्षेत्र के शेखपुर आशिक गांव में विशेष समुदाय ने एक मजहबी गेट लगाया था।इस गेट को अब हटाने की मांग की जा रही है।गेट को लेकर बुधवार से कुंडा तहसील परिसर में भदरी नरेश राजा उदय प्रताप सिंह और उनके समर्थक धरना दे रहे हैं।उदय प्रताप सिंह के धरने को लेकर प्रशासन में हड़कंप मच गया।रात करीब साढ़े दस बजे जिलाधिकारी डॉ. नितिन बंसल और पुलिस अधीक्षक सतपाल अंतिल उन्हें मनाने पहुंचे। दोनों अधिकारी धरनास्थल पर उनके पास जाकर बैठ गए। उनके साथ खाना खाया। अफसरों ने जब धरना खत्म करने की बात कही तो उदय प्रताप सिंह गेट हटवाने की जिद पर अड़ गए।अधिकारियों के असमर्थता जाहिर करने पर उदय प्रताप ने उन्हें सॉरी बोलकर वहां से जाने के लिए कह दिया। डीएम और एसपी रात करीब डेढ़ बजे तक एसडीएम कार्यालय में बैठे रहे। इसके बाद मुख्यालय लौट आए। रात में धरनास्थल पर हनुमान चालीसा का पाठ और सुबह संकीर्तन चलता रहा।शुक्रवार को उदय प्रताप सिंह को हाउस अरेस्ट कर लिया गया।उदय प्रताप सिंह हाउस अरेस्ट किए जाने पर कुंडा, हीरागंज बाजार और डेरवा समेत कई बाजारों को उदय प्रताप सिंह के समर्थन में बंद किया गया है।

गेट और भदरी महल के बाहर पुलिस तैनात

मिली जानकारी के‌ अनुसार मामला कुंडा कोतवाली क्षेत्र के शेखपुर आशिक गांव का है।क्षेत्र में तनाव को देखते हुए मजहबी गेट की सुरक्षा चाक चौबंद व्यवस्था करने के साथ भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है।पीएससी भी बुलाई गई है।भदरी नरेश राजा उदय प्रताप सिंह के महल के बाहर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

गेट हटाए जाने तक चलेगा धरना

बताया जा रहा है कि स्‍थानीय प्रशासन की अनदेखी के कारण बुधवार को राजा उदय प्रताप सिंह कुंडा तहसील परिसर में एसडीएम कोर्ट और सीओ ऑफिस के सामने धरने पर बैठ गए।राजा उदय प्रताप सिंह के समर्थक भी वहां पहुंच गए। उदय प्रताप सिंह की मांग है कि जब तक मोहर्रम का गेट नहीं हटाया जाएगा, वह वह धरने पर ही बैठे रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here