चिकित्सालयों में गठित रोगी कल्याण समितियों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को कुल 58 करोड़ 11 लाख 25 हजार रूपये जारी

0
98

न्यूज़ ऑफ इंडिया ( एजेंसी )


 लखनऊ: राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अंतर्गत भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के क्रम में वित्तीय वर्ष 2022-23 में प्रदेश के जनपद स्तरीय चिकित्सालयों तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र/ ब्लाक स्तरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र स्तरीय चिकित्सालयों में गठित रोगी कल्याण समितियों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को आवंटित असम्बद्ध (न्दजपमक) धनराशि के तहत प्रथम किश्त के रूप में रू0 5.00 लाख प्रति जनपद स्तरीय चिकित्सा इकाई कुल 150 इकाईयों हेतु रू0 7.5 करोड़, रू0 2.50 लाख प्रति सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र/ब्लॉक स्तरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कुल 1027 केन्द्रों पर गठित रोगी कल्याण समितियों हेतु कुल 25 करोड़ 67 लाख 50 हजार रूपये एवं रू० 87500 प्रति प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कुल 2850 केन्द्रों हेतु कुल 24 करोड़ 93 लाख 75 हजार रूपये धनराशि आवंटित की गयी है। इस प्रकार प्रदेश के सभी जनपदों के चिकित्सा इकाईयों कुल 58 करोड़ 11 लाख 25 हजार रूपये प्रथम किश्त के रूप में जारी किये गये हैं। यह धनराशि जिला स्वास्थ्य समिति के अनुमोदनोपरान्त जनपद स्तर से सम्बन्धित रोगी कल्याण समिति एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, जो हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर में उच्चीकृत किये जा चुके हैं, के जन आरोग्य समिति के खाते में सीधे आंवटित की जायेगी।
मिशन निदेशक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उ0प्र0 ने यह जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश के समस्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं उपकेन्द्रों को चरणबद्ध रूप से हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर में उच्चीकृत किया जा रहा है। इन हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टरों पर सरकार द्वारा जारी समुचित चिकित्सकीय एवं स्वास्थ्य सुविधाओं के न्यूनतम मानकों तथा उपचार के निर्धारित मानकों (आई०पी०एच०एस०) की उपलब्धता प्रदान की जा रही सेवाओं में समाजिक उत्तरदायित्वों को सुनिश्चित करने, शिकायतों का निस्तारण एवं चिकित्सा इकाई को प्रदान की जाने वाली असम्बद्ध धनराशि का वित्तीय प्रबन्धन सुनिश्चित करने के उद्देश्य से जन आरोग्य समितियों का गठन किया गया है।
भारत सरकार द्वारा वर्ष 2022-23 तक 2774 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर में उच्चीकृत किये जाने हेतु अनुमोदन प्राप्त हुआ है। जिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर में उच्चीकृत किया जा चुका है, उन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों हेतु आवंटित की जाने वाली असम्बद्ध धनराशि को, चिकित्सा इकाई पर राज्य स्तर से खोले गये जन आरोग्य समिति के जेडबीएसए बैंक खाता में लिमिट/आवंटित किया जायेगा। तत्पश्चात धनराशि का व्यय जन आरोग्य समिति के द्वारा इस सम्बन्ध में प्रेषित दिशा-निर्देशों के अनुसार किया जा सकेगा। जिन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को हेल्थ एण्ड वेलनेस सेन्टर में उच्चीकृत नहीं किया गया है। उन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में, पूर्व की भाँति अन्टाईड फण्ड का उपयोग सम्बन्धित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र/ब्लाक स्तरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र जेडबीएसए बैंक खाता के माध्यम से किया जायेगा एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों हेतु व्यय की जाने वाली असम्बद्ध धनराशि का अंकन सम्बन्धित सामुदायिक/ब्लाक स्तरीय रोगी कल्याण समिति पंजिका में किया जायेगा।
वर्तमान वित्तीय वर्ष 2022-23 में प्रत्येक जनपद स्तरीय चिकित्सा इकाई को प्रतिवर्श रू0 10.00 लाख, प्रत्येक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र/ब्लॉक स्तरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र हेतु रू0 5.00 लाख एवं प्रत्येक प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र (30000 जनसंख्या) हेतु रू0 1.75 लाख वार्षिक असम्बद्ध धनराशि का प्राविधान किया गया है। भारत सरकार के पत्र दिनांक 17.01.2014 द्वारा उपरोक्त अनुमोदित धनराशि का 50 प्रतिशत प्रत्येक चिकित्सा इकाई को अवश्य दिया जाना है। शेष 50 प्रतिशत धनराशि गत वर्ष चिकित्सा इकाई द्वारा उपलब्ध करायी गयी सेवाओं कराये गये प्रसवों एवं एफ०आर०यू० के आधार पर अन्तर वित्तीयन (क्पििमतमदजपंस थ्पदंदबपदह) द्वारा अवमुक्त की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here