जब जब इस राष्ट्र वह समाज पर आपत्तियां आई हैं संतो ने ही मार्ग दिखाया है

0
24



प्रयागराज संगम माध मेला सेक्टर 2 संगम लोअर के पास त्रिवेणी मार्ग चौराहे पर श्री कृष्ण कुंज सेवा समिति स्वामी कृष्णा चार्य महाराज जी के शिवीर में संत सम्मलेन हुआ इस आयोजित संत सम्मलेन में देश भर से पधारे संतो ने कुछ बात कही अध्यक्षता करते हुए जगतगुरु वासुदेवा चार्य स्वामी विद्या भास्कर ने कहा की जब जब इस राष्ट्र व समाज पर आपतिया आई सदैव ही संतो से ही सहारा दिया हैं जगत गुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवा नन्द सरस्वती ने कहा की जो स्वत द्वविव हो जाये दूसरे के कष्टों को देखकर वही सच्चा संत हैं उत्तराखंड पीठा ढीश्वर जगतगुरु स्वामी कृष्णा चार्य ने कहा की रामानुचार्य ने लोक कल्याण हेतु गुरु वचन का भी परित्याग करके और लोगो के दुख से द्वर्विव के जब तेज तेज से मंत्रो का उच्चारण कर आपदों को भी सुनकर गुरु की डांट पर कहा रामानुज के अकेले नर्क जाने से लाखो का उद्धार हो जायेगा तो यह रामानुज सदानंर्क में रहने को तैयार पर गुरु रामानुज संप्रदाय ही बन गया पीठाश्वर जगतगुरु राम चन्दाचार्य ने कहा की जो दया से लवा लब भरा हो वही आलवार हैं मानस केशरी रामलखन दास ने कहा संत ना होते तो राष्ट्र व लोक ही ना होता संतो के त्याग व दान से ही यह राष्ट्र विश्व का मार्ग दर्शन रहा हैं गया से पधारे रामाचार्य एवं पूज्य स्वामी राम प्रायःन्ना चार्य गया पीठाश्वर जगतगुरु एवं स्वामी जयराम दास ने कहा संतो के योगदान के बिना राष्ट्र की कल्पना ही नहीं की जा सकती शुभारम्भ रामानुजाचार्य के चिन्ह पर माल्यापक द्वीप प्रजज्वल किया गया हैं इस आयोजन के मुख्य रूप से गोपालनान्दचार्य महाराज सीताराम गुप्ता मोहन पाण्डेय सम्पतिदास गुप्ता तमाम संत महाराज मौजूद रहें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here