द्वाबा विकास एवं उत्थान समिति द्वारा नि:शुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर किया गया आयोजन

0
58



प्रयागराज :- द्वाबा विकास एवं उत्थान समिति (रजि०) संंस्था कौशाम्बी द्वारा प्रयागराज के करैलाबाग जलसंस्थान के सामने लगाए गए निशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर में लोगों की भीड़ नजर आई। शिविर का उद्घाटन जनपद में स्थित मनोहर दास नेत्र चिकित्सालय के निदेशक डॉ एस पी सिंह के द्वारा दीप प्रज्वलित कर किया गया। निशुल्क चिकित्सा शिविर में आए हुए विशिष्ट अतिथि के रूप में पूर्व विधायक अनुग्रह नारायण सिंह आंखों का जांच डॉ एस पी सिंह द्वारा कर शिविर की शुरुआत की गई।
शिविर में आए हुए मरीजों को डॉ एस पी सिंह के नेतृत्व में मौजूद वरिष्ठ नेत्र चिकित्सक डॉ कमलजीत सिंह, डॉक्टर संतोष, डॉ आनंद शुक्ला, डॉ बी.के सिंह, डॉक्टर विनोद व डॉक्टर मुनीन्द्र ने मरीजों की जांच की। निशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर में लगभग 550 लोगों ने अपना रजिस्ट्रेशन करा कर आंखों की जांच कराई, जांच के दौरान लगभग 200 मरीजों में मोतियाबिंद की शिकायत मिली इन सभी मरीजों के आंखों के पास क्रॉस का निशान बनाया गया और उन्हें ऑपरेशन के डेट देकर बुलाया गया। तथा नेत्र की अन्य समस्याओं से जूझ रहे मरीजों को चिकित्सकों ने निशुल्क दवा वितरण की।
मनोहर दास नेत्र चिकित्सालय के निदेशक डॉ एस पी सिंह ने बताया हमारे पूरे देश में राष्ट्रीय अंधापन निवारण के अंतर्गत हमें जो जिम्मेदारी दी गई है कि कैसे हम अंधापन दूर कर सके इस उद्देश्य से ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों के ऐसे इलाकों में हम शिविर का आयोजन करते हैं जहां पर लोग जानकारी व सुविधाओं के अभाव में हॉस्पिटल नहीं पहुंच पाते, ऐसी जगहों पर हम शिविर लगाते हैं, उस शिविर में मरीजों का प्रशिक्षण किया जाता है जो भी बीमारियां होती हैं या ऑपरेशन की संभावना बनती है तो उसे भी हमारी टीम द्वारा किया जाता है।
द्वाबा विकास एवं उत्थान समिति संयोजक प्रवेश रिजवी ने बताया कि हमारी संस्था 1992 से ही मनोहर दास नेत्र चिकित्सालय प्रयागराज के सहयोग से डा0 एस0पी0 सिंह के नेतृत्व में टाउन एरिया करारी, जिला कौशाम्बी में निःशुल्क नेत्र शिविरों का सफल आयोजन करती आ रही है। यह गैर सरकारी संस्था है सेवा भाव से अपने दोस्तों की मदद से इस संस्था को चला रहे हैं और सेवा भाव से हमने प्रयागराज में भी निःशुल्क नेत्र चिकित्सा शिविर की जरूरत को महसूस करते हुए संस्था के बैनर तले शिविर के तीसरे दौर का आयोजन किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here