प्रयागराज में अल्लाह की राह में कुर्बान होगा दिल्ली से आया मेंन्डा

0
162
खूबसूरत मेन्डा देखने को लगी भीड़।
10 जुलाई को भारत में मनाई जाएगी ईद-उल-अज़हा (बकरा ईद)

इस्लाम धर्म की परंपरा के अनुसार इस्लामिक माह जुल हिज्जा की 10 तारीक को ईद-उल-अज़हा के मौके पर इस्लाम धर्म के अनुयाई पैगंबर हजरत इब्राहिम अलैहिस्सलाम की (सुन्नत) याद में जानवरों की अल्लाह की राह में कुर्बानी देने की प्रथा है, इसमें इस्लाम धर्म के अनुयाई इस्लामिक माह जुल हिज्जा की 10 तारीख को ईद उल अजहा पर अल्लाह की राह में बकरों, भेड़, ऊँट की क़ुर्बानी की जाती है। इस क़ुर्बानी की इस्लाम धर्म मे बहुत महत्वता है। इस्लाम धर्म के मानने वाले जो साहिबे निसाब (सम्पन्न परिवार) हो उन पर कुर्बानी फर्ज है।
कुर्बानी में अच्छे, खूबसूरत और तंदुरुस्त जानवरों की कुर्बानी करना अफ़ज़ल है।
प्रयागराज, रसूलपुर के निवासी गयासुद्दीन (राजू बालू) पिछले काफी दिनों से खूबसूरत मेंन्डा ( सींग वाला भेड़ा ) की तलाश में थे। गयासुद्दीन राजू ने बताया उन्होंने प्रयागराज और आसपास के जिलों की खाक छान डाली मगर उन्हें अपनी पसंद का खूबसूरत मेंन्डा कहीं नहीं मिला, तब उन्होंने प्रयागराज से दिल्ली का रुख किया, क्यों की दिल्ली में भारत के कोने कोने से खूबसूरत जानवर बिकने आते है। आखिरकार दिल्ली जाकर उनकी खोज पूरी हुईं, और उन्हें अपनी पसंद का खूबसूरत मेंन्डा मिल ही गया।
दिल्ली से आए मेंन्डे की अनुमानित कीमत लगभग एक लाख बताई जा रही है।
मेंन्डा प्रयागराज आते ही चर्चा का विषय बन गया है, रसूलपुर में मेंन्डा देखने वालों की भीड़ लग गई। मेंडे की कीमत पूछे जाने पर गयासुद्दीन राजू ने कहा, कुर्बानी के जानवर की कोई कीमत नहीं होती अल्लाह नियत देखता है, बस उनका कहना है अल्लाह इस कुर्बानी को कुबूल करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here