प्रयागराज में जमीन किराए पर लेने के लिए कराया एग्रीमेंट, प्रशासन की मिलीभगत से एक माह बाद ही करा लिया बैनामा

0
103
फर्जी तरीके से किया गया जमीन पर कब्जा, पीड़ित ने उच्चाधिकारियों से लगाई गुहार, आम जनमानस में बना चर्चा की विषय

प्रयागराज :- यमुनापार में कई ऐसी घटनाएं देखी जा चुकी हैं जहां पर फर्जी तरीके से जमीन का बैनामा कराया गया है। ऐसे ही एक मामला प्रकाश में आया है। जानकारी के लिए बता दूं कि चाका ब्लॉक अंतर्गत चकराना तिवारी रामसागर गांव की मंजू देवी पत्नी सुभाष चंद्र निवासी वहां की मूल निवासिनी हैं। सुभाष ने बताया की उन्होंने अपनी जमीन निर्भय कुमार सरोज पुत्र राम सूचित निवासी धरना ,कोटिया जुनेदपुर को किराए पर दी थी जिसका एक वर्ष का एग्रीमेंट कराया गया था। जिसके कुछ महीनों बाद पता चला कि उनकी जमीन का बैनामा किसी और के नाम हो चुका है। वहीं सुभाष का कहना है कि एग्रीमेंट कराते समय 100 रुपए के स्टाम्प पर दस्तखत एक साल के लिए कराया गया था, उसके बाद उन्हें कुछ महीने बाद पता चला कि जमीन किसी ओर के नाम बैनामा करा दिया गया है। उक्त बातों की जानकारी होते ही पीड़ित के पैर तले जमीन ही खिसक गई। जिसके बाद भू माफिया के द्वारा किए गए इस कृत्य से आहत होकर पीड़ित सुभाष ने एक एप्लीकेशन करछना तहसील में भी दी थी लेकिन कोई कार्यवाही नहीं हुई जो जनमानस में एक चर्चा का विषय बना हुआ है। स्थानीय प्रशासन की इस कारगुजारी से पीड़ित दर दर की ठोकरें खाने पर मजबूर है। पीड़ित का कहना है कि फर्जी तरीके से निर्भय कुमार सरोज पुत्र राम सूचित निवासी धरना ,कोटिया जुनेदपुर ने पूरे जमीन का बैनामा करा लिया और बैनामा में राशि 1500000 (15 लाख) रुपए दर्शाया गया है। इस आशय की जानकारी जब पीड़ित को पता चला तो उसने निर्भय कुमार से पूछा तो वह गाली गलौज करने लगा। सुभाष जो कि शुगर व हार्ड के भी मरीज है उनको जब यह बात पता चली तो दंग रह गए फिलहाल अभी भी उनको उच्च अधिकारियों से उम्मीद है कि उन्हें इंसाफ जरूर मिलेगा। वही तहसील प्रशासन पर उठे सवाल में आखिर कब तक ऐसा चलता रहेगा या फिर कोई बदलाव होने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here