प्रयागराज में डॉक्टरों-तीमारदारों के बीच मारपीट की आंच पहुंची लखनऊ, डिप्टी सीएम ने डाक्टरों को नोटिस थमाने का दिया आदेश, जांच कर होगी कार्यवाही

0
93

प्रयागराज : उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक ने स्वरूप रानी नेहरू अस्पताल में कल गुरुवार को जूनियर डॉक्टरों और तीमारदारों में हुई मारपीट की शिकायत को गम्भीरता से लिया है। उन्होंने सूचना मिलने पर प्रधानाचार्य, मेडिकल कॉलेज एसपी सिंह को घटना में शामिल डाक्टरों को तत्काल नोटिस देने व एक कमेटी गठित कर पूरे मामले की जांच कराकर दोषी चिकित्सकों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही करने का आदेश दिया है।

उपमुख्यमंत्री ने एक ट्वीट कर इस सम्बंध में जानकारी देते हुए विस्तृत रिपोर्ट एक सप्ताह के अंदर प्रस्तुत करने के आदेश दिये हैं।

दरअसल मिर्जापुर से इलाज कराने एसआरएन आईं पुष्पा को दीपावली के पहले गायनी विभाग में भर्ती कराया गया था। अल्ट्रासाउंड में पता चला कि पित्त की थैली में पथरी है। इसके बाद महिला को सर्जरी विभाग में भेज दिया गया। अस्पताल के चिकित्सकों ने उसे दीपावली बाद बुलाया। बृहस्पतिवार को सर्जरी होनी थी, लेकिन ऑपरेशन नहीं हो सका। तीमारदारों का आरोप था कि दूसरा नम्बर होने के बाद भी सर्जरी नहीं की गई।

इस बाद तीमारदार मरीज को रेफर करने की मांग करने लगे। मरीज की फाइल लेकर उसका बेटा जाने लगा तो नर्स ने रोक लिया। आरोप है कि उसने नर्स का हाथ मरोड़ दिया। इसके बाद दोनों पक्षों में विवाद शुरू हो गया और मारपीट होने लगी। उधर, मारपीट की जानकारी होने पर करीब 12 जूनियर डॉक्टर मौके पर पहुंच गए और तीमारदारों की पिटाई शुरू कर दी। इस दौरान एक तीमारदार का सिर भी फट गया।

सूचना मिलने के बाद कई थानों की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंच गई। तीमारदार उनसे मदद की गुहार लगाने लगे। इसके बाद पुलिस ने किसी प्रकार मरीज और तीमारदारों को सुरक्षित अस्पताल से निकालकर एंबुलेंस से रवाना कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here