प्रयागराज में बाढ़ के कारण स्थान बदल कर करानी पड़ी इमाम हुसैन की सालाना मजलिस

0
57
यमुना नदी के बाढ़ से करैली गड्ढा कालोनी मे नजमुल हुसैन का घिरा मकान तो मजलिस को ढ़ूंडा दूसरा ठौर

इमाम हुसैन के शैदाई बाढ़ मे मकान के डूबने के बाद भी अपने आप से इमाम हुसैन से रक़बत व मोहब्बत मे किसी प्रकार से कमी नहीं आना देना चाहते।यही वजहा है की करैली गड्ढ़ा कालोनी मे रहने वाले नजमुल हुसैन बाढ़ प्रभावित होने और एक मंज़िल तक बाढ़ के पानी मे मकान डूबने पर पहले से तय दिन व समय पर मजलिस ए हुसैन तो बरपा किए लेकिन आनन फानन मे जगहा बदल कर मजलिस कराई।बाढ़ प्रभावित नजमुल हुसैन द्वारा दायरा शाह अजमल मे आयोजित सालाना मजलिस का आग़ाज़ शहनशाह सोनवी व हनी अब्बास की मर्सियाख्वानी से हुआ ज़ाकिरे अहलेबैत रज़ा अब्बास ज़ैदी साहब ने करबला के मैदान मे एक तरफ लाखों के यज़ीदी लश्कर और दूसरी तरफ मात्र बहत्तर लोग जो पैगंबर ए इसलाम के घराने से थे उनकी जंग का मार्मिक अन्दाज़ में वर्णन किया।अन्जुमन ग़ुन्चा ए क़ासिमया ने नौहा और मातम का नज़राना पेश किया।वही शाम को दरियाबाद इमामबाड़ा अहमद ज़ैदी मे सालाना मजलिस मे हैदर अब्बास बिट्टू भाई ने सोज़ व सलाम से मजलिस का आग़ाज़ किया।डॉ क़मर आब्दी ने पेशख्वानी व शफक़त अब्बास नज संचालन किया।मौलाना अम्मार ज़ैदी साहब क़िबला ने मजलिस को खेताब किया।अन्जुमन हाशिमया के नौहाख्वानों सफदर अब्बास ,ज़िया अब्बास अर्शी आदि ने डॉ0 क़मर आब्दी का लिखा ग़मगीन नौहा पढ़ा।सैय्यद इफ्तेखार हुसैन ,मशहद अली खाँ ,अली आला ज़ैदी ,शफक़त अब्बास पाशा ,अली हसन ,सैय्यद मोहम्मद अस्करी ,औन ज़ैदी ,जौन ज़ैदी ,शजीह अब्बास ,ज़ामिन हसन ,अली काज़िम ,ग़दीर रिज़वघ आदि मौजूद रहे।

तहतुललफ़्ज़ मर्सियाख्वानी मे डॉ फाज़िल अहसन हाशमी ने हुसैनियों को रोने पर किया मजबूर

दरियाबाद स्थित शायर ए अहलेबैत रौनक़ सफीपुरी द्वारा आयोजित सालाना मजलिस मे लखनऊ यूनिवर्सिटी शोबा ए उर्दू (एच.ओ.डी) डॉ फाज़िल अहसन हाशमी ने तहतुललफ़्ज़ मर्सियाख्वानी मे एक एक अशआर को अपने सधे अंदाज और तहतुललफ़्ज़ मर्सिया पढ़ा तो सामईन ने हर अशआर पर जमकर दाद दी वहीं जब करबला के शहीदो का तज़केरा आया तो हर आँख अश्कों से छलकने लगी।मजलिस मे रेयाज़ मिर्ज़ा व शुजा मिर्ज़ा ने सोज़ व सलाम पढ़ा तो अन्जुमन नक़विया के नौहाख्वान शाहरुक़ आब्दी ,मंज़र नक़वी ,शानू नक़वी ,शाज़ू रिज़वी ,शीज़ रिज़वी ,शबीह रिज़वी ,शबीह हसन शाहरुक़ ,शऊर नक़वी ,अली नक़वी ने शायर रौनक़ सफीपुरी का लिखा नौहा पढ़ा।मौलाना आमिरुर रिज़वी ,हसन नक़वी ,अली आला ज़ैदी ,सैय्यद मोहम्मद अस्करी ,शफक़त अब्बास पाशा ,गौहर काज़मी आदि शामिल रहे।करैली थाना क्षेत्र के बिसौना गाँव मे यौमे सज्जाद का आयोजन किया गया।नजीब इलाहाबादी के संचालन मे खतीबे अहलेबैत मौलाना आमिरुर रिज़वी व डॉ रिज़वान हैदर रिज़वी की तक़रीर हुई।नायाब बलयावी व अज़हर रिज़वी की पेशख्वानी हुई।हरदोई के सफदर बहिशती इशान कोरालवी ,सिकंदर इलाहाबादी हैदर रज़ा कोरालवी ने खुसूसी नौहा पढ़ा।शुजा मिर्ज़ा व कामरान रिज़वी ने सोज़ व सलाम पढ़ा।अन्जुमन ज़ुलफेक़ारिया के द्वारा आयोजित यौमे सज्जाद मे जवानाने हुसैनी ,मक़दूमियाँ ,मज़लूमिया ,शब्बीरिया व ज़ुलफेकारिया नज पुरदर्द नौहा पढ़ते हुए जुलूस निकाला।शकील अब्बास ,शाहिद प्रधान ,आसिफ अब्बास अमन ,कल्बे अब्बास ,इब्ने अब्बास आदि शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here