बाढ़ प्रभावित जिलों के नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी पूरी संवेदना के साथ पीड़ितों की मदद करें -नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री

0
58



न्यूज़ ऑफ इंडिया ( एजेंसी )


लखनऊ: उत्तर प्रदेश के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री ए.के शर्मा ने बुधवार को प्रदेश में बाढ़ प्रभावित नगर निकायों में बाढ़ राहत एवं प्रबंधन कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने बाढ़ प्रभावित ज़िलों के नगर निकायों में राहत और बचाव कार्यों को प्रभावी रूप चलाने तथा संचारी रोगों के निवारण के लिए ज़रूरी व्यवस्था करने के निर्देश दिए। मंत्री ने जलभराव की स्थिति में पानी की बेहतर निकासी सुनिश्चित करने बाढ़ क्षेत्र में साफ-सफाई करके मच्छर जनित बीमारियों से बचाव के लिए दवा का छिड़काव व फॉगिंग सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। जर्जर भवनों में फंसे लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने को भी कहा।
नगर विकास मंत्री ने बुधवार को स्थानीय निकाय निदेशालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बाढ़ प्रभावित जिलों के साथ बरेली मंडल के प्रभारी मंत्री के रूप में मंडलायुक्त एवं मंडल के चारों ज़िलों के अधिकारियों के साथ वर्षा व जल भराव से उत्पन्न परिस्थतियों की समीक्षा की। उन्होंने प्रशासन को सतर्क रहने तथा परिस्थितियों के अनुरूप राहत एवं बचाव कार्य सुनिश्चित करने को कहा। इस दौरान उन्होंने बाढ़ प्रभावित जिलों के नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों (म्व्े) को पूरी संवेदना के साथ पीड़ितों की मदद करने को कहा।
ए0के0 शर्मा ने अम्बेडकरनगर, अयोध्या, आजमगढ़, बहराइच, बलरामपुर, बाराबंकी, बस्ती, बुलंदशहर, गोरखपुर, लखीमपुर खीरी, कुशीनगर, महाराजगंज, मऊ, गोंडा, संत कबीरनगर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, सीतापुर समेत अन्य जिलों के नगर निकाय के प्रतिनिधियों से बात की। उन्होंने सभी नगर निकायों की स्थितियों का जायजा लिया।
मंत्री ए0के0 शर्मा ने प्रदेश की सभी नगर निकायों को जलभराव की स्थिति से निपटने के लिए जल निकासी हेतु बेहतर प्रबंधन करने के निर्देश दिए। जलभराव की स्थिति के बाद संचारी रोग फैलने की आशंका रहती है। संचारी रोग और मच्छर जनित बीमारियां न फैलें इसके लिए सतर्कता बरतनी होगी। उन्होंने एंटी लार्वा दवा का छिड़काव व फॉगिंग सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी नगर निकायों को निर्देश दिए कि किसी भी मेनहोल का ढक्कन न खुला रह जाए। ऐसे में हादसे की आशंका बनी रहती है। मंत्री जी ने बाढ़ प्रभावित नगर निकायों में हेल्पलाइन नम्बर जारी करने का सुझाव दिया। इससे प्रभावित व्यक्ति सीधे मदद प्राप्त कर सकेंगे। उन्होंने जीर्ण-शीर्ण मकानों और भवनों की स्थिति का जायजा लेने और प्रभावी कार्रवाई करते हुए उसमें फंसे लोगों को निकालकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी नगर निकायों को गौशालाओं पर विशेष ध्यान देने के लिए निर्देशित किया।
ए0के0 शर्मा ने कहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में अधिकांश उपकेन्द्र और ट्रांसफार्रमर के पानी में डूब जाने से विद्युत आपूर्ति बाधित हुई थी, जो कि अब बलरामपुर में एक-दो स्थानों को छोड़कर आपूर्ति सुचारू रूप से बहाल कर दी गई है। उन्होंने ऊर्जा विभाग के अधिकारीयों को प्रभावी इलाकों में विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए।
इस बैठक में प्रमुख सचिव अमृत अभिजात, विशेष सचिव सुनील कुमार चौधरी, निदेशक स्थानीय निकाय नेहा शर्मा के साथ अन्य विभागीय अधिकारी तथा ऊर्जा विभाग के उच्च अधिकारी उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here