बिजली महोत्सव: पहले सिर्फ चार जिलों को मिलती थी बिजली,अब प्रदेश का हर गांव व जिला वीआईपी: सीएम योगी

0
148

लखनऊ।सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उज्ज्वल भारत के उज्ज्वल भविष्य को ध्यान में रखते हुए बिजली महोत्सव और ऊर्जा महोत्सव मनाया जा रहा है।इस मौके पर सीएम योगी ने लोकभवन में आयोजित कार्यक्रम में 2,723.20 करोड़ रुपए की लागत से 17 पारेषण और वितरण उपकेन्द्रों का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। सीएम ने कहा कि जिन जनप्रतिनिधियों के प्रस्ताव पर परियोजना पूरी हुई है उन्हें बधाई। जिन परियोजनाओं का शिलान्यास हुआ है उनका समय पर कार्य पूर्ण होगा।

सीएम योगी ने कहा कि 1.21 लाख गांव में आजादी के बाद भी बिजली नहीं पहुंच पाई थी।हमने हर घर बिजली के लक्ष्य को पूरा किया है।अब प्रदेश का हर जिला और गांव वीआईपी होगा। उन्होंने कहा कि पहले चार जिलों में बिजली मिलती थी, लेकिन अब सभी जगह रोस्टर के अनुसार बिजली दे रहें है। अगले पांच साल में अपनी बिलिंग और कनेक्शन एफिशिएंसी को बढ़ाना विभाग के लिए चुनोती है। हमें विद्युत की दृष्टि से आत्मनिर्भर बनना है। पॉवर कारपोरेशन बिना भेदभाव के बिजली उपलब्ध कराएगा।

ऊर्जा मंत्री अरविंद कुमार शर्मा ने कहा कि पिछले छह दिन से ऊर्जा महोत्सव मनाया जा रहा है।आज महोत्सव के समापन का दिन है।उन्होंने कहा कि विकास में ऊर्जा बड़ा कारक रही है।देश में पानी, बिजली और सड़क राजनीतिक मुद्दा बनती है। देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए ऊर्जा का विकास, बिजली की निर्बाध आपूर्ति आवश्यक है। पहले देश बिजली की कमी के लिए जाना जाता था और 5 से 10 प्रतिशत की कमी बनी रहती थी। अब हम पड़ोसी देशों को बिजली निर्यात कर रहे हैं। सौभाग्य योजना के तहत यूपी को 1.43 करोड़ कनेक्शन दिए गए है।

बिजली महोत्सव कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा, ऊर्जा मंत्री अरविंद कुमार शर्मा, राज्यमंत्री सोमेंद्र तोमर, अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी और पावर कारपोरेशन के अध्यक्ष एम देवराज सहित कई अधिकारी मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here