योगी मंत्रिमंडल की राज्यपाल के साथ चाय पर चर्चा, नई परंपरा या असंतोष दबाने की कवायद,जानें पूरा मामला

0
123

लखनऊ।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दूसरी बार मुख्यमंत्री के तौर पर उत्तर प्रदेश में काबिज हैं।योगी सरकार के तीन महीने पूरे हो गए हैं।सीएम योगी और उनके सहयोगियों ने सरकार के 100 दिन का कामकाज का रिपोर्ट कार्ड जनता के सामने भी रखा था।इसका एक अच्छा संदेश भी लोगों गया था,लेकिन नई तबादलता नीति के बनने के बाद तबादले को लेकर मंत्रियों और अफसरों के बीच जबरदस्त मतभेद सामने आए तो कैबिनेट मंत्री और राज्य मंत्रियों के बीच भी तकरार भी दिखाई दी।ऐसे में योगी सरकार की छवि को काफी नुकसान पहुंच रहा था।सरकार से जुड़े सूत्रों की अगर मानी जाए तो केंद्र सरकार के इशारे पर अब राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मंत्रियों को चाय पर चर्चा के लिए आमंत्रित किया है।इसके पीछे का मकसद सरकार के बीच पनप रहे असंतोष को दबाना है।

राजभवन में राज्यपाल मंत्रियों के साथ करेंगी चाय पर चर्चा

सरकार से जुड़े सूत्रों की माने तो राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत सभी मंत्रियों को चाय पर चर्चा करने के लिए बुलाया है।योगी सरकार ने 100 दिनों में काफी काम किए हैं।इनके कामकाज को लेकर राज्यपाल मंत्रियों से फीडबैक भी ले सकती हैं।ये पहला मौका है जब किसी राज्यपाल ने मुख्यमंत्री समेत पूरे मंत्रिमंडल को चाय पर चर्चा करने के लिए बुलाया हो,लेकिन राज्यपाल की मंत्रियों के साथ बैठक का राजनीतिक निहितार्थ भी निकाले जा रहे हैं। सूत्रों की माने तो केंद्र सरकार के इशारे पर ही राज्यपाल ने पूरे मंत्रिमंडल को तलब किया है।

राज्यपाल सीएम योगी और कैबिनेट के मंत्रियों से ले सकती है फीडबैक

सियासी पंडितों की माने तो यूपी में संभवत: ये पहला मौका है जब किसी राज्यपाल ने मुख्यमंत्री समेत मंत्रिमंडल के सभी सदस्यों को राजभवन में चाय पर चर्चा के लिए बुलाया हो। इससे पहले की परम्परा ये रही है कि स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस के अवसर पर राज्यपाल मुख्यमंत्री समेत मंत्रिमंडल के सभी सदस्यों को डिनर पर बुलाया जाता रहा है। इस बार यह एक नई परम्परा की शुरुआत हो रही है।

तबादलों में हो रहे खेल से यूपी में मचा सियासी तूफान

उत्तर प्रदेश की सियासत में पिछले कुछ दिनों से तबादले को लेकर कई विभागों में जमकर मारामारी मची थी।आलम ये था कि कुछ मंत्रियों को अपने अफसरों के खिलाफ ही लामबंद होना पड़ा तो कुछ नाराज होकर दिल्ली की राह पकड़ ली। ऐसा माना गया कि योगी मंत्रिमंडल में मंत्रियों के बीच असंतोष पनप रहा है। उपमुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक और अमित मोहन प्रसाद के टकराव ने सुर्खियां बटोरी तो पीडब्ल्यूडी मंत्री जितिन प्रसाद के विभाग में भी तबादलों के खेल को लेकर काफी हंगामा हुआ।बात मुख्यमंत्री तक पहुंची तो 5 अधिकारियों पर गाज गिरी।सरकार के तौर तरीकों से नाराज जितिन ने दिल्ली की राह पकड़ ली।बताया गया कि वो केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलने गए हैं,लेकिन अमित शाह ने जब मिलने से इंकार कर दिया तो जितिन को वापस लौटना पड़ा।कुल मिलाकर देखा जाए तो योगी सरकार में तबादलों को लेकर पहली बार इतना हल्ला मचा जिससे सरकार की छवि को नुकसान पहुंचा।

दिनेश खटीक प्रकरण के बाद राजभवन की बैठक काफी अहम

तबादलों के अलावा योगी सरकार में कैबिनेट मंत्रियों और राज्यमंत्रियों के बीच तालमेल का अभाव दिखाई दिया। जलशक्ति राज्य मंत्री दिनेश खटीक नाराज होकर अपना इस्तीफा गृह मंत्री अमित शाह को भेज दिया था।खटीक के इस कदम ने योगी सरकार में तहालका मचा दिया था। इस्तीफे के बाद खटीक ने योगी सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए थे, लेकिन बाद में खटीक ने कहा कि यह कोई विषय नहीं है। यानी केंद्रीय नेतृत्व के सक्रिय होने के बाद मामला शांत हो गया,लेकिन योगी सरकार में मंत्रियों के भीतर पनप रहे इस असंतोष की बात दिल्ली तक पहुंच गई। इसके बाद केंद्रीय नेतृत्व और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सक्रिय हुए।बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार के इशारे पर ही राज्यपाल ने मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्रियों को एक मंच पर बुलाया ताकि सभी मंत्रियों के बीच आपसी तालमेल बन सके।

सरकार बनने के बाद पीएम मोदी ने किया था डिनर

उत्तर प्रदेश में दूसरी बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद योगी आदित्यनाथ को फिर मुख्यमंत्री बनाया गया। सरकार बनने के कुछ दिनों के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लखनऊ आए और 5 कॉलीदास पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत सभी मंत्रियों के साथ डिनर किया था। इस डिनर में कई ब्यूरोक्रेट़स भी शामिल हुए थे।इस डिनर में पीएम मोदी ने सभी मंत्रियों को आपस तालमेल के साथ आगे बढ़ने की नसीहत दी थी और सीएम योगी को सरकार चलाने का मंत्र भी दिया था। पीएम मोदी के डिनर की काफी चर्चा रही थी। उस डिनर के बाद अब राज्यपाल की तरफ से योग और उनके मंत्रियों के लिए चाय पर चर्चा का आयोजन किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here