योगी मॉडल की तारीफ,अपनाने की भी बात, जानें यूपी के बाहर कहां बजा योगी सरकार का डंका

0
143

लखनऊ।उत्तर प्रदेश के योगी मॉडल की तारीफ अब देश के दूसरे राज्यों में भी होने लगी है।कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी के नेता प्रवीन नेट्टारू की हत्या को लेकर जारी बवाल के बीच कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि वह भी योगी मॉडल अपना सकते हैं।भाजपा नेता की हत्या के बाद जारी बवाल के बीच आलोचनाओं का सामना कर रहे सीएम बसवराज बोम्मई उस समय सबको ये कह कर चौंका दिया कि जरूरत पड़ी तो इस मामले में योगी मॉडल की तर्ज पर कार्रवाई की जाएगी।

सीएम के तौर पर एक साल का कार्यकाल पूरा होने के अवसर पर बसवराज बोम्मई ने कहा कि अगर स्थिति की मांग हुई तो यूपी में चल रही सरकार के योगी मॉडल को राज्य में अशांति फैलाने की कोशिश कर रहे राष्ट्र विरोधी और सांप्रदायिक तत्वों से निपटने के लिए अपनाया जा सकता है।उन्होंने कहा कि यूपी की स्थिति को देखते हुए योगी सही मुख्यमंत्री हैं।इसी प्रकार कर्नाटक में स्थिति से निपटने के लिए अलग तरीके हैं और उन सभी का इस्तेमाल किया जा रहा है।अगर स्थिति की मांग होगी तो कर्नाटक में भी सरकार के योगी मॉडल को अपनाया जाएगा।

आखिर क्यों कहनी पड़ी ऐसी बात

आपको बता दें कि कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में भारतीय जनता युवा मोर्चा के नेता नेता प्रवीण की मंगलवार रात को बेल्लारे में हत्या कर दी गई थी, इसके बाद से ही वहां मौहाल गरम है।नेट्टारु की हत्या के बाद भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और उससे के कुछ घटकों द्वारा कर्नाटक में सरकार का योगी मॉडल लागू करने की मांग की जा रही है।सीएम बोम्मई ने इसी संबंध में पूछे गए एक सवाल का जवाब दिया था।हालांकि इस हत्या के मामले में जाकिर और शफीक नामक दो आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। दोनों की गिरफ्तारी से भाजपा इससे संतुष्ट नजर नहीं आ रही है और कड़ी कार्रवाई की मांग कर रही है।हत्या से नाराज इन लोगों का आरोप है कि राज्य सरकार हिंदू कार्यकर्ताओं की जान बचाने के लिए खड़ी नहीं हो रही है।

क्या है योगी मॉडल का मतलब

आपको बताते चलें कि योगी मॉडल से अभिप्राय उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा राष्ट्र विरोधी गतिविधियों के खिलाफ उठाए गए कड़े कदमों से हैं,जिनमें से ऐसे तत्वों और माफिया के खिलाफ बुलडोजर का इस्तेमाल शामिल है। इतना ही नहीं विकास दुबे एनकाउंटर का मामला भी योगी आदित्यनाथ की सख्ती का परिचय देता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here