ग़ाज़ी अब्बास की शहादत पर गमज़दा बयान से अश्कबार हुए अज़ादार

0
100

माहे मोहर्रम की आठवीं पर दिन भर अज़ाखानों मे हुसैनी लश्कर के अलमबरदार ग़ाज़ी अब्बास की शहादत का ज़िक्र हुआ।अज़ाखानों मे ओलमा ने हज़रत अब्बास की शहादत का तज़केरा किया।सुबहा से देर रात तक कहीं मजलिस हुई तो कहीं दस्तरख्वान सजा कर नज़रो नियाज़ दिलाई गई।चक इमामबाड़ा डीप्यूटी ज़ाहिद हुसैन मे अशरे की आठवीं मजलिस को मौलाना सय्यद रज़ी हैदर साहब क़िबला ने खिताब किया।मजलिस से पहले मर्सियाख्वान नज़र अब्बास खाँ ने सोज़ व सलाम पढ़ा।मजलिस के फौरन बाद शबीहे ज़ुलजनाह व एक दर्जन अलम मुबारक भी ज़ियारत को निकाला गया।हाय सकीना हाय प्यास कघ सदाओं के बीच हज़ारों की संख्या मे मौजूद अक़ीदतमन्दों ने ज़ुलजनाह का बोसा लिया व अलम मुबारक कि ज़ियारत की।फूल माला चढ़ा कर मन्नतें व मुरादें भी मांगीं।अन्जुमन हैदरिया रानीमण्डी के नौहाख्वान हसन रिज़वी व साथियों ने पुरदर्द नौहा पढ़ा।नय्यर आब्दी ,अरशद नक़वी ,सफी नक़वी के आवास पर हज़रत अब्बास की नज़्र दिलाई गई और लोगों ने दस्तरख्वान पर नज़रे मौला चखा।पान दरीबा इमामबाड़ा सफदर अली बेग मे स्व सैय्यद रज़ा हुसैन की ओर से प्रतिवर्ष होने वाली सालाना मजलिस अदनान रज़ा की ओर से आयोजित की गई।मौलाना ज़ैग़म अब्बास ज़ैदी ने मजलिस को खिताब किया अन्जुमन हुसैनिया क़दीम के नौहाख्वानों ने ग़मगीन नौहा पढ़ा।अहमदगंज स्थित ताहिरा हाऊस मे अनजुम व शायर अनवार अब्बास की ओर से आयोजित मजलिस मे मन्नती अलम निकाला गया अन्जुमन ग़ुन्चा ए क़ासिमया ने ग़ाज़ी अब्बास की शहादत पर पुरदर्द नौहा पढ़ा।इसी प्रकार दरियाबाद ,रानीमण्डी ,करैली ,बख्शीबाज़ार ,दायरा शाह अजमल ,रौशनबाग़ ,शाहगंज सहित अनेकों मोहल्लों मे औरतों व मरदों की मजलिस हुई।इस मौक़े पर गौहर काज़मी ,हसन नक़वी ,नजीब इलाहाबादी ,ताशू अल्वी ,अलमास हसन ,सैय्यद मोहम्मद अस्करी ,नय्यर भाई , अहसन भाई , फैज़ान आब्दी ,ज़फर मेंहदी ,बाक़र मेंहदी ,क़ासिम रज़ा ,आसिफ रिज़वी ,अमन ,शुजा आदि शामिल रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here